जिन्दगी है मगर, पराई है

जिन्दगी है मगर, पराई है

जिन्दगी है मगर, पराई है

एक बार फिर तेरी, याद आई है

जिन्दगी है मगर, पराई है …

लोग काँटों कि बात करते है

हमने फूलों से चोट खाई है

जिन्दगी है मगर, पराई है …

छोड़ दी ये दुनिया जिसके लिए

उसकी गली से हो रही बिदाई है

जिन्दगी है मगर, पराई है …

 

अच्छे अच्छों ने हमको धोका दिया

तू भी दे दे तो क्या बुराई है

जिन्दगी है मगर, पराई है …

 

सारे आपने तो मुझे रूठ गए

मेरी किस्मत में ये तन्हाई है

जिन्दगी है मगर, पराई है …

 

लोग हम को तो बुरा कहते ही है

तू भी कह दे तो क्या बुराई है

जिन्दगी है मगर, पराई है …

jindgi hai magar parayi hai

लोग काँटों कि बात करते है

हमने फूलो से चोट खाई है

जिन्दगी है मगर, पराई है …

About the Author

Bajrang

No Comments

Leave a Reply